विवाह वित्तीय सहायता योजना 2019 हरियाणा मिलेंगे 50000 रुपया

1
30

हरियाणा सरकार लेकर आई है विवाह वित्तीय सहायता योजना जिसके अंतर्गत सभी पंजीकृत लाभार्थी मजदूरों को उनकी बेटी के विवाह के समय हरियाणा सरकार द्वारा वित्तीय सहायता दी जाएगी। आज आप इस लेख के माध्यम से जानेगे कि कितनी राशि इस योजना के माध्यम से आपको मिलेगी और कैसे आप इस योजना का लाभ उठा सकते है। और इस योजना में आवेदन करने के लिए क्या- क्या शर्ते और पात्रताएं होगी।


इस योजना के जरिये पंजीकृत मजदूरों के परिवारों की आर्थिक मदद की जाएगी। आज के दौर में एक गरीब पिता के लिए अपनी बेटी का विवाह करना कोई आसान बात नहीं है। विवाह करने में काफी खर्च आता है। परिवार को आर्थिक समस्याओ का भी सामना करना पड़ता है। कई बार तो माँ – बाप को अपनी बेटी का विवाह करने के लिए घर और जमीन तक बेचने के लिए मजबूर होना पड़ता है। इन्ही समस्याओ को देखते हुए ही इस “विवाह वित्तीय सहायता योजना” को शुरू किया गया है।

विवाह वित्तीय सहायता योजना का लाभ – Benefits of Marriage Assistance Scheme Haryana

इस योजना के अंतर्गत पंजीकृत मजदूर की बेटी के विवाह की व्यवस्था हेतु शादी के तीन दिन पहले 50,000 /- रूपये की वित्तिय सहायता देने का एलान किया गया है। इस योजना द्वारा यह सहायता श्रमिक मजदूर की अधिकतम तीन लड़कियों की शादी तक दी जाएगी। इस योजना के जरिये एक पंजीकृत मजदूर को अपनी बेटी का विवाह करने में आर्थिक मदद मिलेगी।

अगर आप भी इस योजना में आवेदन करना चाहते है तो आपको भी इसके लिए निम्नलिखित शर्तो का मानना आवश्यक है।

  •  पंजीकृत मजदूर की कम से कम एक वर्ष की सदस्यता पूरी होनी चाहिए।
  •  निम्नलिखित अधिकारियों में से किसी एक से, शादी का कार्ड एवं आवेदन पत्र प्रमाणित होना चाहिएः- ( राज्य सरकार के राजपत्रित अधिकारी/सहायक श्रम आयुक्त/श्रम निरीक्षक/सचिव ग्राम पंचायत/पंचायतअधिकारी/बीडीपीओ/डीडीपीओ/नाइबतहसीलदार/तहसीलदार/कानोन्गो/पटवारी/सहायक निदेशक, औद्योगिक सुरक्षा और स्वास्थ्य/एसडीओ और सरकारी विभाग के या बोर्ड या नगरपालिका समिति/नगर निगम/नगर परिषद के कनिष्ठ अभियंता और सरकारी स्कुल के प्रमुख (प्रिंसिपल/हेड मास्टर/एडमिस्ट्रिेस)
  •  स्वयं से प्रमाणित किए हुए दुल्हा एवं दुल्हन का आयु प्रमाण पत्र ( दुल्हन की आयु कम से कम 18 वर्ष होनी चाहिए और दूल्हे की आयु कम से कम 21 वर्ष ) दावा फार्म के साथ प्रस्तुत की जाएगी।
  •  आवेदक यह लिख कर देगा की वह संबंधित सहायक निदेशक के कार्यालय में विवाह का प्रमाण पत्र एक वर्ष की अवधि में प्रस्तुत कर देगाा अन्यथा भविष्य में वह किसी भी कल्याणकारी योजना के अंतर्गत किसी भी लाभ का पात्र नहीं होगा।
  • आवेदक वचन/स्वतः घोषणा प्रस्तुत करेगा कि उसने यह सहायता किसी अन्य सरकारी विभाग/बोर्ड/निगम से प्राप्त नहीं की है और न ही करेगा।

विवाह वित्तीय सहायता योजना हरियाणा ऑनलाइन आवेदन कैसे करे –

इस विवाह वित्तीय सहायता योजना का लाभ उठाने के लिए आपको इस हरियाणा ई – गवर्नेस पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। पोर्टल पर ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा। उसके बाद ही आप इस योजना के लिए आवेदन कर पाएंगे और इस योजना का लाभ उठा पाएंगे।

  • अधिकारिक वेबसाइट पर जाने के लिए https://hrylabour.gov.in/ यहाँ क्लिक करे
  •  स्क्रीन में दिख रहे होम पेज पर ऑनलाइन पंजीकरण वाले ऑप्शन पर क्लिक करे।
  • पेज पर दी गई सभी सूचना को ध्यानपूर्वक पढ़े और आखिरी में दिए गये चैक बाक्स पर क्लिक करें और साथ में बने सबमिट वाले बटन को दबायें।
  • ऑनलाइन पंजीकरण फॉर्म आपके सामने आ जायेगा। इस फार्म को ध्यानपूर्वक भरे और पंजीकरण प्रक्रिया को पूरा करे।
  •  ऑनलाइन पंजीकरण होने के बाद, यूजरनेम और पासवर्ड के जरिये इस पोर्टल पर लॉगिन करे।
  • लॉगिन करने के लिए स्क्रीन में होम पेज पर आपको “उपयोगकर्ता लॉगिन” का कॉलम दिखेगा। अब आप यूजरनेम और पासवर्ड के जरिये इस पोर्टल पर लॉगिन करे।
  • लॉगिन होने के बाद, स्क्रीन में आपको योजनाओ की सूचि में इस विवाह वित्तीय सहायता योजना पर क्लिक करना है। और योजना आवेदन फार्म को भरना है और जमा करना है।

विवाह वित्तीय सहायता योजना में आवेदन करने के लिए पात्रता-

  • सदस्यता
  • आवेदन की सीमा
  • इस योजना के लिए
  • मृत्यु के बाद जारी

नोट: अगर कोई भी पंजीकृत मजदूर इस विवाह वित्तीय सहायता योजना के साथ-साथ कन्यादान योजना के लिए भी आवेदन करता है तो उसकी बेटी के विवाह के समय हरियाणा सरकार द्वारा 50,000 (विवाह वित्तीय सहायता योजना) + 51,000 (कन्यादान योजना) = 1,01,000/- रूपये प्रदान किये जाते हैं।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here